R.E.D.-RROM

Restoring the European Dimension of Rromani Language and Culture

Login
login name
password
login
मुख पृष्ठ » प्रस्तावना

ड़ोमानी लोग उत्तर भारत में जन्मे और पूरे विश्व में फैले । उनमें से अधिकतर ने युरोप को अपना घर बनाया । उत्तर भारत से शुरू होकर सारी दुनिया में और खासतौर पर युरोप में सदियों तक चली इस कठिन और कभी कभी दिलचस्प प्रसार यात्रा के दौरान ड़ोमानी भाषा और संस्कृति विकसित भी हुईं और समृद्ध भी ।हमें आशा है कि आप जैसे जिझासु व्यक्ति ड़ोमानी भाषा तथा संस्कृति को समझने की इच्छा रखते हैं । हिन्दी भाषी होने के नाते ये पाठ आपके लिए कोई मुश्किल भी नहीं हैं । संस्कृत के लगभग ८०० मूल ड़ोमानी भाषा में पाए जाते हैं । हिन्दी की आम बोलचाल के शब्द जैसे बाल, कान, रूख, छुरी आदि ड़ोमानी में भी सामान्य रुप से प्रयोग होते हैं। आपसे आग्रह है कि ड़ोमानी भाषा एवं संस्कृति के डस पाठ को और बेहतर तरीके से समझने के लिए कृपया निम्नलिखित में से किसी सहायक भाषा का चुनाव करें । इसी उद्देश्य से इन सहायक भाषाओं में यह परियोजना रिस्टोरिंग द युरोपियन डायमेन्शन ऑफ ड़ोमानी लैन्गुएज ऐन्ड कल्चर (R.E.D.-RROM) विकसित की गयी है ।

अन्य किसी शंका के समाधान हेतु हमारी वेबसाइट www.red-rrom.eu पर आपका स्वागत है ।

R.E.D. RROM के साथ सीखने ड़ोमानी आपको ड़ोमानी भाषा और संस्कृति में एलएमडी लाइसेंस डिग्री लेने में सक्षम हो जाएगा (इस विकल्प की पेशकश करने वाले विश्वविद्यालयों के बारे में और जानकारी प्राप्त करें)

 

struktura domek.png